Wednesday, August 5, 2009

किसी Karaoke ट्रैक में अपनी आवाज़ कैसे डालें?

संगीत के साथ अपनी आवाज़ रिकॉर्ड करना चाहते हैं?


यह सवाल मुझसे पिछले कई महीनों से पूछा जा रहा है कि हम अपनी आवाज़ के पीछे (पार्श्व में) संगीत कैसे डाल सकते हैं, उसे संपादित कैसे कर सकते हैं। या किसी कैरिऑकि ट्रैक पर अपनी आवाज़ कैसे रिकॉर्ड करें? आज मैं इसका वीडियो ट्यूटोरियल लेकर उपस्थित हूँ, जिससे आप ऑडेसिटी के इस्तेमाल से यह काम आसानी से करना सीख सकते हैं।

दोस्तो, कैरिऑकि यानी Kara-oke एक जापानी भाषा का शब्द है जो जापानी के कैरा (यानी खाली, रिक्त) और ओके (यानी ऑरकेस्ट्रा) से मिलकर बना है। कैरिऑकि ट्रैक किसी चिर-परिचित गीत का केवल संगीत-हिस्सा होता है। इससे गायक-गायिका की आवाज़ें निकाल दी जाती हैं। माना जाता है कि सन 1971 में जापान के संगीतकार डैसुकि इनोई ने सर्वप्रथम एक ऐसी मशीन का आविष्कार किया था जो संगीतबद्ध गीत से मेल-फीमेल आवाज़ को हटा देता था। बाद में यह यूरोप और एशिया में बहुत मशहूर हुआ।

खैर कैरिऑकि का इतिहास चाहे जो भी हो, हम आपको बताते हैं कि आप अपनी आवाज़ के साथ संगीत की सुर-ताल कैसे जोड़ सकते हैं।

इससे पहले कि आप यह वीडियो ट्यूटोरियल देखें, आप अपने सिस्टम पर ऑडेसिटी ज़रूर इंस्टॉल (संस्थापित) कर लें। ऑडेसिटी इंस्टॉल करने का ट्यूटोरियल यहाँ उपलब्ध है।

नीचे का प्लेयर चलायें। अगर वीडियो छोटा दिख रहा हो तो इसे फुलस्क्रीन कर लें।



यदि आप इस वीडियो ट्यूटोरियल को अपनी सुविधानुसार देखना-सुनना चाहते हों तो यहाँ से डाउनलोड कर लें।

कोई सवाल हो तो ज़रूर पूछें।

17 comments:

Manju Gupta August 5, 2009 at 5:29 PM  

आप का समझाना अच्छा लगा लेकिन आवाज में रुकावट आ रही थी ,जिससे कुछ -कुछ समझ नहीं आ रहा था . समय मिलने पर कविता काव्य गोष्टी की प्रेषित करूंगी .
इस सराहनीय सफल कदम को हिंद युंग को कोटि -कोटि बधाई
manju gupta

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi August 5, 2009 at 11:23 PM  

अच्छी जानकारी!
रक्षाबंधन पर हार्दिक शुभकामनाएँ!
विश्व-भ्रातृत्व विजयी हो!

Anonymous August 14, 2009 at 12:22 PM  

This is a Good Video for Novice People who want to learn How add his/her voice in Karaoke.

Shamikh Faraz August 16, 2009 at 4:46 PM  

बहुत ही बढ़िया जानकारी आपने मुहय्या कराई.

SUNIL KUMAR SONU December 1, 2009 at 11:32 AM  

it's a very useful information for fresh candidate.thanks a lot

ANAND KR PATHAK February 7, 2010 at 9:30 PM  

पुरस्कृत कविता- बहुत सा फ़र्क है

बहुत सा फर्क है- तुझमें और मुझमें
तेरी शतरंज के खाने,बस काले और सफेद हैं
चकोर, चार कोनों वाले हैं,मेरी ज़िन्दगी की शतरंज
रंगीन खानों वाली है,रिश्तों में उल्झे-आड़े टेढ़े हैं

बहुत सा-फर्क है, तुझमें और मुझमें
तू है सख्त कठोर सा, बहुत इक्ट्ठा वजूद है तेरा
मैं एक रेत हूँ बेहद सूखी, हर हवा के साथ बस उड़ती हुई बस
आँसू की नमी से जुड़ती हुई

बहुत सा फर्क है-- तुझमें और मुझमें
तू घरों को बनाता है, दीवारों को चीनता है
और दुनिया तलाशने निकल जाता है
मैं तेरे उन घरों को बसाती हूँ, दीवारों में उमर गुज़ार देती हूँ
और मरकर, एक दीवार बन जाती हूँ, बहुत सा-फर्क है
तुझमें और मुझमें

ANAND KUMAR PATHAK

SADANAND February 7, 2010 at 9:34 PM  

पुरस्कृत कविता- बहुत सा फ़र्क है

बहुत सा फर्क है- तुझमें और मुझमें
तेरी शतरंज के खाने,बस काले और सफेद हैं
चकोर, चार कोनों वाले हैं,मेरी ज़िन्दगी की शतरंज
रंगीन खानों वाली है,रिश्तों में उल्झे-आड़े टेढ़े हैं

बहुत सा-फर्क है, तुझमें और मुझमें
तू है सख्त कठोर सा, बहुत इक्ट्ठा वजूद है तेरा
मैं एक रेत हूँ बेहद सूखी, हर हवा के साथ बस उड़ती हुई बस
आँसू की नमी से जुड़ती हुई

बहुत सा फर्क है-- तुझमें और मुझमें
तू घरों को बनाता है, दीवारों को चीनता है
और दुनिया तलाशने निकल जाता है
मैं तेरे उन घरों को बसाती हूँ, दीवारों में उमर गुज़ार देती हूँ
और मरकर, एक दीवार बन जाती हूँ, बहुत सा-फर्क है
तुझमें और मुझमें

ANAND KUMAR PATHAK

SADANAND February 7, 2010 at 9:56 PM  

हितोपदेश 19 - मूर्ख गधा

इक धोबी के पास गधा करता रहता काम सदा कपड़े सारे उसके उठाता और नदी पर छोड़ के जाता
लेता धोबी बहुत सा काम गधे को न मिलता आराम न मिलता खाना भर पेट भूखे पेट ही जाता लेट
हो गया गधा बहुत कमजोर नहीं रहा था उसमें जोर पहुँच गया वह मरण किनारे और अब धोबी मन में विचारे जो इसका नहीं पेट भरेगा तो यह भूखा ही मरेगा आया उसको एक ख्याल ओढ़ा दी उसे बाघ की खाल छोड़ दिया उसको आज़ाद
खेतों में फसलों के पास मिलता उसको पेट भर खाना मिला हो जैसे कोई खजाना सारा दिन वह फसलें चरता भरता पेट और मस्ती करता कुछ ही दिन में आ गया जोश सँभल गए गधे के होश इक दिन खेत का मालिक आया देख के गधे को वो भरमाया समझ लिया गधे को बाघ दूर से देख गया वो भाग दूजे दिन मालिक फिर आया साथ मे धनुष-वाण भी लाया पहने उसने कपड़े काले ताकि बाघ को भ्रम में डाले गधा समझ कर बाघ आ जाए और वो उसको मार गिराए बैठा छुप कर वृक्ष की डाली समझा गधे ने है गधी काली खुश हो देख के भाग के आया टै-टै करके वो चिल्लाया जैसे ही गधे की सुनी आवाज़ समझ गया मालिक सब राज ओढ़ी गधे ने बाघ की खाल चली किसी ने मुझ संग चाल आसानी से उसको मारा मर गया था अब गधा बेचारा


ANAND KUMAR PATHAK

Anonymous October 22, 2010 at 10:56 AM  

aapko jaan kar khusi hui aap ek ache dil wale insaan hai kya aap mer help kar sakte hai mai chaitng kar raha tha or kisi ne meri id lock kar di hai or wo ab nahi khulti hai meri us id mai bahut jaruri documnt the kya muje wo meri id dubara mil sakti hai plz batayega jarur vijayraturi@gmail.com

Anonymous April 17, 2011 at 3:36 AM  

बहुत बढ़िया तरकीब है, वाह ! जानकारी देने का बहुत-बहुत धन्यबाद.

ऐसे ही सुन्दर ऑडियो/विडियो के ट्यूटोरियल अपलोड करते रहे है..
जय हिंद

Reetesh December 19, 2011 at 12:28 PM  

शत शत अभिनन्दन..कितना सुन्दर काम कर रहे हैं आप सब, ऐसा सहकार जो न जाने कितनो को पहल करने और अपनी अभिलाषाओं को मूर्त रूप देने में सहायक होगा..

दिनेश वर्मा December 20, 2012 at 9:51 AM  
This comment has been removed by the author.
दिनेश वर्मा December 20, 2012 at 9:52 AM  

लाजवाब जानकारी दी है सर जी...

अपना-अंतरजाल

Anonymous December 24, 2012 at 5:17 PM  


very good Guide line

very very Thankyou

Rohit kumar April 27, 2013 at 3:22 PM  

where from i can download orignal karaok song?

uttam purohit June 28, 2013 at 10:04 AM  

sir ji ye bataiye ki mere pass laptop ha to mane jaise jaise apne bataya waise kiya par meri awaj record nahi ho rhai..iske liye mujhe kya karna hoga,krupya bataiye.....

Free Recharge November 19, 2014 at 9:18 PM  

sir, maine jaise apne bataya maine record kar liya aur record ho bhi gaya par sunne par quality sahi nai lag rahi voice aur track sahi se mix nahi ho rahe alag alg lag rahi hai awaaz to sir iski quality kis tarha sahi karenge

Post a Comment

Back to TOP